‘Dharti Kahe Pukaar Ke’… ‘ जीयो और जीने दो’ !

‘Neela aasmaan’ ‘Dharti’ ‘Saagar’
‘Baadal aur Bijli’
‘Saanjh aur savera’
‘Dhundh’
‘Dhoop Chhaaon’
‘Raat aur Din’
‘Geet gaaya patthharone’
‘Mitti mein Sona’
‘Karishma kudrat ka’
‘Satyam Shivam Sundaram’

‘Nadiya Ke Paar’
‘Himalay se ooncha’
‘Prem Parbat’
‘Door gagan ki chhaaon mein’
‘Hariyali aur Raasta’
‘Jaanwar aur Insaan’
‘Jungle ki pukaar’ ‘Safed haathi’
‘Haathi mere saathi’
‘Ham panchhi ek daal ke’
‘Mamta ki chhaaon mein’
‘Phool khile hain gulshan gulshan’

‘Naya Daur’
‘Naya Zamaana’
‘‘Duniyadaari’

‘Laalach’ ‘Lootmaar’
B’e reham’ ‘Duniya’
‘Zehreela insaan’
‘Gunde’ ‘Lootere’
‘Insaaniyat ke dushman’
‘Shaitaan Mujrim’
‘Kaalaa dhandaa gorey log’
‘Meetha zehar’ ‘Dhan Daulat’
‘Acid Factory’
‘Chimani Ka Dhuaan’
‘Kohram’

‘Garm Hawaa’
‘Kabhi andhera kabhi ujaala’
‘Shor’ ‘Mausam’
‘Bin baadal barsaat’
‘Aag ka dariyaa’
‘Kaalaa samundar’
‘Pighalta Aasmaan’
‘Sehra’ ‘Pyaasi Nadi’
‘Zalzalaa’
‘Bawandar’
‘Aandhi aur toofan’
‘Kaala paani’
‘Ram teri ganga maili’

‘Do beegha zameen’
‘Dharti Maata’
‘Kisaan’ ‘Armaan’
‘Ek mutthi aasmaan’
‘Astitva’
‘Toote khilaune’
‘Pagdandi’
‘Swarg Se Sundar’
‘Ye Gulistaan Hamara’

‘Tere Dwaar Khade Bhagwaan’
‘Dharti Kahe Pukaar Ke’
‘Samaaj ko badal daalo’
‘Mujhe jeene do’
‘Jiyo aur jeene do’

——————————————————————

( In Devnagri Script)

‘नीला आसमान’ ‘धरती’ ‘सागर’
‘बादल और बिजली’
‘सांझ और सवेरा’
‘धुंध’
‘धुप छाँव’
‘रात और दिन’
‘गीत गाया पत्थरोने’
‘मिटटी में सोना’
‘करिश्मा कुदरत का’
‘सत्यम शिवम सुन्दरम’

‘नदिया के पार’
‘हिमालय से ऊंचा’
‘प्रेम परबत’
‘दूर गगन कि छाँव में’
‘हरियाली और रास्ता’
‘जानवर और इंसान’
‘जंगल कि पुकार’ ‘सफ़ेद हाथी’
‘हाथी मेरे साथी’
‘हम पंछी एक ड़ाल के’
‘ममता कि छाँव में’
‘फूल खिले हैं गुलशन गुलशन’

‘नया दौर’
‘नया ज़माना’
‘दुनियादारी’

‘लालच’ ‘लूटमार’
‘बे-रहम’’दुनिया’
‘ज़हरिला इंसान’
‘गुंडे’ ‘लूटेरे’
‘इंसानियत के दुश्मन’
‘शैतान मुजरिम’
‘काला धंदा गोरे लोग’
‘मीठा जेहर’ ‘धन दौलत’
‘एसिड फैक्ट्री’
‘चिमनी का धुंआ’
‘कोहराम’

‘गर्म हवा’
‘कभी अँधेरा कभी उजाला’
‘शोर’ ‘मौसम’
‘बिन बादल बरसात’
‘आग का दरिया’
‘काला समुन्दर’
‘पिघलता आसमान’
‘सेहरा’ ‘प्यासी नदी’
‘ज़लज़ला’
‘बवंडर’
‘आंधी और तूफ़ान’
‘काला पानी’
‘राम तेरी गंगा मैली’

‘दो बीघा ज़मीन’
‘धरती माता’
‘किसान’ ‘अरमान’
‘एक मुट्ठी आसमान’
‘अस्तित्व’
‘टूटे खिलौने’
‘पगडण्डी’
‘स्वर्ग से सुन्दर’
‘ये गुलिस्तान हमारा’

‘तेरे द्वार खड़े भगवान’
‘धरती कहे पुकार के’
‘समाज को बदल डालो’
‘मुझे जीने दो’
‘जीयो और जीने दो’

(OUR EARTH – OUR FUTURE, LET US SAVE IT)

जनसंख्या विस्फोट

आज विश्व पर्यावरण दिवस पर जन्मे समाजशिल्पी को ढेर सारी शुभकामनायें…
पर्यावरण प्रदुषण और उससे जुडी सारी समस्याओं का मुख्य कारण जनसँख्यामें हुई वृद्धि है. आज हमने अपने जीवन को सुखी बनाने के लिए भौतिक सुविधा के साधन जुटा रखे है. पर इसमें हमने प्रकृति के नैसर्गिक तंत्र को खतरा पहुँचाया है. मनुष्य की आबादी बढ़ने के साथ साथ प्राकृतिक संसाधनों की कमी बढती जा रही है. आज हम प्रकृति के कितने करीब है ये याद दिलाने के लिए कुछ प्रश्न लिखे है:

कब यह सब महसूस किया था साथी जीवन में तुमने?
प्यार प्रकृति का पाकर कब जीवन धन्य किया तुमने?

सुबह सवेरे मुर्गे की कब बांग सुनी थी? बचपन में?
चहकती चिड़िया को सुनकर कब महक उठे थे मधुबन में?
बना ही रहता बड़ी देर तक मुह में कड़वापन सारा,
ऐसे बता कब होंठ तले दातुन दबाया था तुमने?

तृप्त हुआ कब चक्की के आटे की वह रोटी खाकर?
या फिर घर के पिछवाड़े की ताज़ी सब्जियाँ बनवाकर?
आज जो कुछ खाया उसको बोते, उगते, बढते देखा?
या फसलों को काटके ले जाते कब देखा था तुमने?

कब देखा था आसमान उस रात निराला – तारों भरा?
या देखा ढलते सूरज को? लहलहाता घास हरा?
चाँद चौदवीं का वह देख के साथ लिए और पहला प्यार
पार चलें इस दुनिया के कब ऐसा सोचा था तुमने?

छैल छबीले यारों के संग उड़ता होली का वह रंग,
या हो दीवाली की खुशियों में जब पुरे परिवारका संग,
कभी अष्टमी, ईद कभी तो, सारे मनाये मिलजुल कर,
कौन सा धर्म है, क्या है जाति, कब ऐसा पूछा तुमने?

आज प्रदुषण फैलाता है, और शांति का भंग करे,
औद्योगिक कचरे फैलाकर, वनसंपति का नाश करे,
और अस्तित्व के संघर्ष में तु नैतिकता को भूल चूका,
जनसंख्या विस्फोट का क्या होगा अंजाम सोचा तुमने?

आज पर्यावरण दिन पर इस जनविस्फोट के प्रदुषण की भौतिक सुविधाओं को तुष्ट के बजाए आबादी को नियंत्रित करने का संकल्प करें और आने वाली पीढ़ी को पर्यावरण की छाया का सुख प्रदान करें.