टक टकी …

क्यों हमसे इस कदर रूठा है तू भला,
और फेर ली है हमसे निगाहें अपनी,
क्या नहीं है परवाह तुझे उन मासूमों की भी,
जिन्होंने अभी अभी होश संभाला है,
और वे जिन्हें, तेरे होने पर –
तुझसे भी ज्यादा ‘यकीन’ है,

माना कि, की है बेवफाई हमने,
तेरे उसूलों से, और,
भटक गए हैं तेरी बताई हुई राह से हम,
फेर लिया है मुंह कुछ इस तरह से हमने ,
कि ‘जानकर’ बन गए है ’अनजान’
अपने ‘अंजाम’ से हम,

पर हम बेबसों कि तू सुनता रहा है सदा,
लगाये बैठे हैं टक टकी तेरी ओर,
हे परवर दिगार तुम दयालु ‘सरकार’
तेरा ही चलता रहा हुक्म हर बार,
तेरे बस में हैं सब भंडार
सूखी,बंजर,बिखरती ज़मीन को
तेरे ‘रहमो-करम’ का है इंतज़ार