सपनों का भारत !!!

सपनों का भारत हमारे
कैसा हो
कैसा हो
चारों तरफ खुशहाली हो
और लहराता तिरंगा हो !!

सपने जो सब देखे थे
वीर अमर शहीदों ने
भगत, बापू,सुभाष ने
और सारे भारतवासियों ने
पूरा कर उन सपनों कों
अपना फ़र्ज़ निभाना हो !! १ !!

बदलाव जो देश में आया है
मौका सुनहरा लाया है
जोश फिजाओं में नया है
मौका नहीं ये गंवाना हाँ
सबक पुरानी गलतियों से लेकर
एक नया भारत बनाना हो !! २ !!

भेद-भाव, लूट-पाट,
जात-पात,
जोर-ज़बरदस्ती और
फिरकापरस्ती कों,
पहचान लो गद्दारों कों
मिटा कर इन दुश्मनों कों
अत्याचारों को न सहना अब
नया सवेरा लाना हो !! ३ !!

सपनों का भारत हमारे
अब ऐसा ही हो के
चारों तरफ खुशहाली हो
और लहराता तिरंगा हो !!