‘लाठीतंत्र’ और ‘मुआवजा’ – (‘Laathi Tantra’ Aur ‘Muaavja’)

जिसकी जहां चल रही है
वो वहीँ लाठी भांज रहा है
‘लाचार’ बेबस देख रहा है
‘अराजक’ राज कर रहा है

गुनाहगार सीनाजोर
छाती ठोक के जी रहा है
कायदा क़ानून ताक पर रख कर
धडल्ले से मौज कर रहा है

बेगुनाह बेक़सूर
सीने पर वार झेल रहा है
मौत पर उसकी,
मातम –
अंदर ही अंदर दम तोड़ रहा है,

रोटी के फेर में
आम जनता उलझ कर
दसों दिशाओं सर पटक रही है
मुट्ठीभर ‘सेवक’ मज़े लेकर
पकवान उड़ा रहे है,

यही लोकतंत्र है
यही समाजवाद है
यही विकास है
यही सुशासन, सुराज और सर्वोदय है

आम आदमी अपने जुगाड में
‘इंसानियत’ से ‘जुदा’ है
इसी पर तो ‘सियासत’ ‘फ़िदा’ है
अंदाज़ जुदा भले हो ‘सियासत’ का
एक ही इसका ‘सौदा’ है,

टुकड़े टुकड़े इंसान
अपनी ही फ़िक्र में उलझा है
कोई किसी के साथ नहीं है
और किसी का ‘हाथ’ किसी के साथ नहीं है
आशाओं के झूठे ‘कमल’
अपनी ही दलदल में हैं,
पास उसके जाएँ तो
‘धंसने’ का का खतरा है

स्वार्थ का गठ जोड़
है ‘मुट्ठीभर’
लेकिन भारी
‘जन सैलाब’ पर

खेल वही पुराने
जात-पात और
भेद-भाव् के,
पाँसे वही – मंदिर-मस्जिद
आरक्षण और
भाषा-प्रांत के

यही भारत है
यही सबसे बड़ा जन-तंत्र है
यहाँ आम आदमी कि जिंदगी
एक ‘हादसा’ है,
और उसकी तकदीर
एक ‘मुआवजा’ है…

Arey chaddi pehan ke phool khila hai…

Happy Birthday Gulzar Saab!!

Today is the birth day of our beloved and one of the most respected bollywood personalities Shri.Gulzaar Saab!
An image of ‘deep river, flowing silently, its water touching to the highest levels of its banks’ comes to mind whenever I think about him.
His poetry when I read it, and try to understand it and as I keep revisiting to those beautiful lyrics penned by him I think he is an ‘Ocean – full of emotions’.
He has over the years been there like this and that is what I feel as my relationship with him has grown over the years.
Normally we say that the relationship grows ‘older’ but here in this case ‘it has grown younger and ‘younger ‘as the years have passed by.

Recollecting all these memories here, I am noting the thoughts as they emerge in my mind now and the names of the movies and various albums that I referred to may not be in a chronological order.

Writing this post brings many things to my mind about Gulzar Saab; right from the days when I was in my pre-teens, there were songs from the film Aandhi, Kinara that I liked the most.
Those are the very first memories of him that comes to my mind then the film ‘Mere Apne’, ‘Anand’ then Mausam, Golmaal, Gharonda, Angoor,Masoom , Lekin.
Then as i grow up more to understand the meaning of his lyrics, learning about him reading the news associated with him, his getting awards at many Film fare awards functions, his various felicitations time to time comes to my mind.
I got to listen to his soft and mesmerizing voice first in the HMV’s album ‘Fursat ke raat din’.
This is my all time favorite collections.

I very much identify with him when he in his own way takes a dig at the state of affairs or politics in ‘haal chaal thhik thhak hai’ or ‘ghaplaa hai bhai ghaplaa’. It speaks of his agony.

Moving forward to the unforgettable TV serial ‘Mirza Ghalib’ and his various non filmy albums with Jagjit Singh.
His commentary while introducing Bhupen Da’s Hindi songs and also his doing the translation of them from the original Assamese songs, in the album ‘Main Aur Mera Saaya’, I can keep it listening again and again.

All this have become a part of my life.

And I am not going to list all of them, and instead I will directly come to the only point that is very close to my heart and that I have purposely selected for the day today.

His contribution for children films and various animated films!
The many beautiful lyrics he has penned for and that we call as ‘children songs’!
The work he has done for children more important too and this is one thing about him that I like the most and that I love him, and I am most fascinated with, other than his poetic excellence.

That is why I had said above that the relationship has grown younger and younger as the years passed by.
It is often heard that ‘everybody has a child in them’, but to keep him alive till the end is very difficult and very less people are able achieve this.
I can say that the child in me is very much alive and Gulzar Saab’s songs play a very very important role in this.

Just go through this simple and innocent lines ‘‘jungle jungle baat chali hai, pataa chalaa hai, arey chaddi pahan ke phool khila hai’
This is one of my favorite songs. Though I was already a grown up person and had got an employment when this serial was aired on Doordarshan. Still every Sunday I watched it for this beautiful title song.

He has given us many many special ‘children’ songs or i would put them as the evergreen songs for ever. i personally like children movies and their songs that are particularly penned by Gulzar saab.
Just go through these lyrics;
Bandar Bindaas Bandar
Shararatein hamaakatein
Hamaari aadatein
Ye khatti mithi uljhane hai
Aur aafate
Na koi gham hame
Na koi darr
Bandar bindaas Bandar
Bandar bindaas Bandar

Jeene ka tarika hai
Na koi kaaydaa hai
Waada hai iraada hai
Na koi faaydaa hai
Ha ha ha ha
Gend ki tarah uchhalke ham
Zindagi se khelte hain
Ha ha ha ha

(From my other all time favorite album ‘‘KARADI KATHA’
– 2000. All songs for this album are penned by Gulzar Saab.)

If you have still not gone through this, please immediately get it today and enjoy the pure heavenly innocence that flowed from the maestro’s words.

Thanks, Gulzar Saab, thank you very much, for keeping active the child in me, motivate the child in me, and for keeping alive the innocence in me.

Gulzar Saab loves children very much. He sincerely and seriously cares for them.
‘I am good mother, though I have not gone through the labor pains, I feel it very well‘
Said he, while speaking on the release of the’ third edition’ of his book Dyodhi at Pune in March this year.
‘We do not respect children!’
‘If a child is crossing a road the whole traffic should be stopped and let the child is allowed to cross the road safely and it would be better if one can help him in doing so’

Does he miss the innocence in our society?
And that’s why he tries to find them in children’s movies;

‘To an extent, yes’

Finally I would definitely wish to write about when I got the chance to see him, to talk him and to touch him.

During my stay at Kota-Rajasthan, in the winters of 1996 the whole crew of Maachis including Gulzar Saab was there at Kota.
They were staying at different hotels/guest houses in the city.
One of the Hotels where Om Puri, Kanwal Jeet Singh,Raj Zutshi and other members were staying was nearer to my place of residence and the hotel manager was my good friend.
So I was informed to grab this chance to see these bollywood personalities or meet them, and it can be either in early morning or late evening only.
I was interested to meet Om Puri and Kanwal Jeet Singh mainly. Because Tabbu and other lead actors were staying at different place far away from my place.
However I fail to match with the timings and could not see any one.
The next day morning, I was ready for the office and before that, I took my elder daughter who was then 7/8 months old for a morning walks (as usual then).
Walking on I came around this Hotel. And there was a pleasant surprise for me.
It was a cold morning so I was wearing a full sweater and my daughter also having all those cold preventing clothes.
And in front of the Hotel (this Hotel is on the main road of the city which is called as Kota-Jhalawar road) wearing a white starched ‘kurta pyjama’ and taking the sun bath was Gulzar Saab it was around between 08.00-08.30 in the morning. He was standing there alone and nobody could notice this. (The taste of the city is slightly different, people there could have thronged if there was Dharmendra or Raj Kumar standing like this).
I walked towards him, greet him with Namaskar.
‘Kaise hain Sir Aap’
‘Ji thhik hoon!’

You can judge my situation then, I was not expecting to meet Gulzar Saab, and so I could not understand what to do?
I could not believe what was happening then!
I was between the transition zone of dream and reality.

So taking a via route and looking at my daughter I said, beta , Sampooran Singh ji se puchho ‘kaise hain aap?’,
(I had read about and know by then that his real name is Sampooran Singh)
He smiled and caresses my daughter and gives his ‘aashirwad’ to her!
This lovely moment i always remember and whenever he is there in news or on TV and my daughter is with me, I remind her that you have been very fortunate to have got his ‘aashirward’!

That day! That lovely morning!
I will cherish it forever as long as I live.


Phir Zindagi Ko Surilaa Banaa Diya

This poem is dedicated to – Atul ji, and the lovely blog ‘atulsongaday.me’, to all ‘team Atul members’, dedicated to all my seniors, fellow contributors on this blog, well wishers and supporters of the blog; http://atulsongaday.me/

फिर जिंदगी को सुरीला बना दिया…

आपने पनाह देकर
अपनी सोहबत में कर लिया
जिंदगी को मेरी और
बड़ा कर दिया

सोयीं हुयी यादों को
फिर से जगा दिया
खोये हुए बचपन को
फिर से हँसा दिया

कितने लम्हे जी लिए मैंने,
जिंदगी के गीत में –
जो तुमने सरगम को
मिला दिया,
कई अरमान थिरक उठे
साँसों मे मेरी जो आपने
संगीत को घोल दिया,

गम और खुशी के सब फ़साने
लगे गुनगुनाने,
ऐ दोस्त,
जिंदादिली को मेरी फिर से
ज़िंदा कर दिया,

बन गए तुम जो
मेरे रहनुमा,
मेरे हमसफ़र,
मेरे राजदार,
बहारों कि तो मैं क्या कहूँ
खिजाओं को भी आपने
हसीन बना दिया ..

कर रहा था ‘हिसाब’ मैं, कि,
बीत रही बेला ‘मध्यांतर’ कि भी
और ‘हासिल’ ऐ दिल तुमने क्या किया,
लेकिन छोड़ दिया अब ये ख़याल मैंने,
जिंदगी में ‘तरानों’ का ‘तूफ़ान’ भर लिया,
आज से फिर एक नया ‘आगाज़’ कर दिया !!


Phir Zindagi Ko Surilaa Banaa Diya

Aapne panaah dekar
Apni sohbat mein kar liya
Zindagi ko meri aur
Badaa kar diya

Soyi huyee yaadon ko
Phir se jagaa diya
Khoye hue bachpan ko
Phir se hansaa diya

Kitne lamhe jee liye maine,
Zindgai ke geet mein-
Jo tumne sargam ko milaa diya,
Kayi armaan thhirakk uthhe
Saanson mein meri jo aapne
Sangeet ko ghol diya,

Gam aur khushi ke sab fasaane
Lage gungunaane,
Aye dost,
Zindaadili ko meri phir se
Zindaa kar diya,

Ban gaye tum jo
Mere rehnooma,
Mere hamsafar,
Mere raazdaar,
Bahaaron ki to main kya kahoon,
Khizaaon ko bhi aapne
Haseen banaa diya…

Kar rahaa thha ‘hisaab’ main, ki,
Beet rahi bela ‘madhyaantar’ ki bhi,
Aur ‘haasil’ aye dil tumne kya kiya,
Lekin chhod diya ab ye khayaal maine,
Zindagi mein ‘taraanon’ ka ‘toofan’ bhar liya,
Aaj se phir ‘ek nayaa aaghaaz’ kar diya!!!

तीसरा मोर्चा – ( एक बिखरी हुई कविता )

फिर ‘मोर्चे’ कि बात चली है,
फिर ‘मोर्चों’ का मौसम आया है,
आओ हम भी एक मोर्चा बनाएँ,
आओ एक ‘मोर्चे’ में शामिल हो जायें,
नाम चाहे कोई भी रख लो
पर भ्रष्टाचार से झोली भर लो,
मोर्चा तो एक बहाना हैं
जनता को लूटकर हमें तो बस
अपना काम बनाना हैं


एक तरफ है ‘मोर्चा’ अमीरी का – सत्ता का,
एक तरफ है ‘मोर्चा’ उद्दंड, दबंग और दहशत गर्दों का ,
राज इन्ही दो ‘मोर्चों’ का चलता है
सिर्फ कहने के लिए कोई बीचमे
बार बार ‘तीसरे’ मोर्चे कि बात उठाता है,
ताकि बना रहे ‘संभ्रम’ जनता में,
और चलती रहे ‘दलाली’ इन मौकापरस्तों कि,
कहलाता है यह दलबदलुओं का,
और ‘सौदागरों’ का मोर्चा,
होतें है इसमें शामिल जो रह न गए,
इधर के भी या उधर के भी,
चलते हैं दाँव जो इधर से भी और उधर से भी

लेकिन है एक मोर्चा ऐसा भी,
जो है सबसे बड़ा भी,
मगर न जाने है क्यों, रहता हैं,
निर्विकार, निष्क्रिय और लाचार ही,
जो बस सहता है,
हर तरह के अत्याचार,
देखता है होते हुए कई ज़ुल्मों को,
पर ओढ़ लेता है स्वांग अंधेपन का,
आखिर कहाँ दिखायेगा चेहरा अपनी
बरबस मजबूरी और नपुंसकता का ….

इन अलग अलग रंगों के मोर्चों में भाई,
खो गया है ‘मोर्चा’ ‘आम आदमी’ का ,
राजनीती कि बिसात पर देखो,
रौंदा गया है ‘मोर्चा’ ‘इंसानियत’ का !!!

‘Hamaara Paryaavaran- Hamaara Jeewan’

Hare Ped
Shuddh Jal Vaayu
Paawan Van-Upvan
Inse Hain Banaa
Prakriti ka Santulan

Karo Inkaa Jatan
To Rahe Prasann
Chitt Apna Aur,
Pavitra Mann
Sadaa Rahe Prafullit
Yah Sundar Paryaavaran

Ye Hi To Hain Srot
Prerna Aur Utprerna Ka
Bal Ka Saadhan
Jeene Ka Sansaadhan
Urjaa Apne Kartavya Ki,
Apne ‘Jeewan’ ka


‘हमारा पर्यावरण – हमारा जीवन’

हरे पेड
शुद्ध जल वायु
पावन वन-उपवन
इनसे हैं बना
प्रकृति का संतुलन

करो इनका जतन
तो रहे प्रसन्न
‘चित’ अपना और
पवित्र मन ,
सदा रहे प्रफुल्लित
यह सुंदर पर्यावरण

ये ही तो हैं
स्रोत प्रेरणा और
उत्प्रेरणा का ,
बल का साधन ,
जीने का संसाधन
उर्जा अपने कर्त्तव्य की
अपने ‘जीवन’ का

Happy 5 th Birthday …

Thanks to my friend Pamir Harvey whose similar activity for his blog inspired me that I should also take care of my own blog, while I do other activity and contributions to other blogs.

So here is wishing my dear blog ‘SAMAJ SHILPI’ (‘the Social Architect’) a very very HAPPY BIRTHDAY today.

It was through a conscious thought process that the date ‘5 th June’ was selected to launch this lovely creative blog.
As today 5 th also happens to be the ‘World Environment day’ every year.

To bring ‘environmental awareness’ is one of the core objective of this blog.

On this occasion today I wish to thank my founding members’ friends Ashish Tilak, Bharat Bhatt and my younger daughter Ashwini for their constant support and encouragement to me.
While Ashwini has also been the major contributor for her posts since she was studying in Std VII th, and to some extent could not devote much time due to her board exams since last year. (Though in between she contribute some posts)
As her exams are over I hope her posts would be coming regularly now.

Back to ‘Samajshilpi’,
He will continue to fight for the ‘right’ and to bring ‘positive change’ in the society.

Many things happen regularly around us that shake up our conscience and the current socio-political scenario had posed many serious threats for all the human beings who love peace and believe in ‘live and let live’. Crime against women and children are continuing as if there is no fear of ‘law’ for those who commit these crimes and carry on anti social activities. Corruption has damaged the total social fabric and everything seems to be ‘fixed’ in favor of the ‘wrong’.

“We continue to tolerate the ‘wrong’ at the cost of the ‘right’, (that is what my favorite writer/poet Gulzar saab express recently speaking on the occasion of the release of the 3 rd edition of his ‘dyodhi’. )

Samajshilpi, is closely watching them all, observing them & feeling them all. He do feel ‘sad’ and ‘helpless’ at times, but then the hope for the ‘positive change’ keeps him ‘optimistic’ and motivates to carry his role further ….

Wishing all readers and well wishers of this blog very happy ‘Environment day’ today, I leave all of your with the following thought provoking ‘tweet’ shared recently by my another good friend Raja Swaminathan –

“The day people respect facts more than opinion, we will become a more objective society, and the media could help by leading”

‘घोटालों’ का ‘नव-युग’ आया . . .

मन में उमड़ रहा
‘घोटालों’ का ‘गुबार’ हैं
आओ यारों गाएं हम
खुशी के गीत
झूमे गाकर अपना राग,
अपनी लय, अपनी ताल,
और अपना संगीत,

देश भी अपना
माल भी अपना
अपनी ही सरकार
अरे मौज उडाओं यारों
किस चीज़ कि है दरकार,

‘म न रे गा ‘ तू भ्रष्टाचार के गीत,
‘छेड़’ घपलों कि ‘तान’ तू
कभी होना न विचलित
‘शहरीकरण’ के इस दौर में,
क्यों रहे ‘स्वास्थ्य’ भी ‘ग्रामीण’
लूट तरंगे ‘टू-जी’ की तू
और बन जा ‘रंगीन’

काला रंग क्यों तुझे
अरे नहीं हैं भाता,
‘काला’ ‘कोयला’ ही तो हैं
सुख-समृद्धि लाता,
हैरान हैं ‘पशु-प्राणी’ बेचारे
क्यों ‘चारा’ खा गए ‘नेता’

‘खेल’ निराले, ‘ढंग’ निराले,
हैं ‘गेहूं-चावल’ में भी ‘घोटालें’

‘अंतरिक्ष’ और ‘देव-आवास’ (या अन्त्रिक्स-देवास?)
में भी हमारे ही चर्चें हैं
हमारी ‘कामन-वेल्थ’ पे तो
‘कुबेर’ भंडारी कि भी नज़रें हैं,
‘आदर्श’ हमारे घोटालें हैं
या ‘घोटालों के हम ‘आदर्श’ हैं ?
इस ‘प्रश्न-चिन्ह’ के साथ आपको
छोडना नहीं चाहते,
पर चाहकर भी ‘इतनी जल्दी’
किसी ‘कन्क्लूजन’ पे,
हम पहुंचना नहीं चाहते,

हेलिकॉप्टर आया
हेलिकॉप्टर आया
ऊंची उड़ान वाला
हेलिकॉप्टर आया

‘नोट’ बरसाया,
धुल उडाया,
‘कमीशन’ कि ‘खुशबू’ फैलाया
सात समंदर पार लहराया,
नव-वर्ष कि शुभ-शकुनी बेला पर
देख यह नव-प्रभात आया
‘घोटालों’ का ‘नव-युग’ आया !

देखो ये मेरे ‘बंधे हाथ’ …..

दिल्ली कि मुख्यमंत्री माननीय श्रीमती शीला दीक्षित जी ने एक ‘टीवी’ इंटरव्यू दिल्ली कि बिगड़ती कानून व्यवस्था को ठीक न कर पाने के कारणों का ब्यौरा जब दिया, और अपनी जो लाचारी, मजबूरी उन्होंने जाहिर कि तो मेरे जैसे ‘आम आदमी’ (नहीं उस पार्टी से मेरा कोई लेना देना नहीं है .. वैसे ‘आम आदमी’ पार्टी ने आंदोलन में शरीक होकर एक अच्छा संकेत दिया है) के मन में कई सवाल उठे.
और एक बात तो समझ में आयी कि शीला दीक्षित जी का ‘इंटरव्यू’ इस बलात्कार कि दुर्घटना का दुःख जताने से ज्यादा अगले साल दिल्ली में होनेवाले चुनाव के मद्देनज़र, बिगड़ती कानून व्यवस्था को सँभालने में अपनी नाकामयाबी को ढकने के प्रयास कि शुरुवात भर लग रहा है.
जरा सोचें के खुद मुख्यमंत्री कह रही है कि ‘मैं पिछले ग्यारह साल से इस बात का प्रयास कर रही हूँ के दिल्ली पुलिस हमारे अधीन कर दी जाए, लेकिन ये हो नहीं पाया’, ग्यारह साल (२००४ से पकडें तो आठ साल) एक मुख्यमंत्री अपनी ही पार्टी कि सरकार से- केंद्र सरकार- से एक महत्वपूर्ण और जरुरी काम नहीं करवा पायी, जिससे कि राज्य कि कानून व्यवस्था को वे सुधार पाती या फिर उनके कहे मुताबिक़ ऐसी घटनाएं न होने देती.

और इस टीवी इंटरव्यू में उन्होंने शब्द भी ऐसे चुने जिससे कि आम आदमी कि दुखती रग पर हाथ डाला सके. जैसे कि ‘ मेरे हाथ तो बंधे हुए है…’
सोचो के अगर एक मुख्यमंत्री के हाथ अगर इतने बंधे हुए है तो आम आदमी कि क्या औकात है.
और इस आम आदमी को अपने हाथ किस हद तक खोलने कि जरुरत है . क्योंकि अभी जब आम आदमी ने अपना आक्रोश-विरोध जताया तब कहीं जाकर इन्होने ये कहने कि जहमत उठायी के ‘मेरे हाथ तो बंधे हुए है’. नहीं तो, ये तो बस इस वक्त को भी किसी तरह लीपापोती कर गुज़ार ही देते.

दूसरी महत्वपूर्ण बात यह हैं कि , जब हम निम्न से निम्न स्तर के कर्मचारी से भी या अफसर से भी ‘अग्रसक्रियता’ (pro-activeness) कि उम्मीद करते हैं, जवाबदेही कि बातें करतें हैं, निरंतर सुधार कि बातें करतें है, उसके कार्य प्रदर्शन, कार्यक्षमता से उसकी तनख्वाह को जोड़ते है, तो क्या इन लोगों के लिए ऐसे नहीं करना चाहिए?, एक आम आदमी आज कि तनावभरी जिंदगी में दो जून कि रोटी के लिए जी-जान से मेहनत करता है, अपनी तरक्की के लिए अपनी कार्यक्षमता बढाने से लेकर अपने प्रदर्शन में सुधार करते रहता है, इस सब के लिए अपने मालिक कि या अपने अफसर कि बातें, उसका गुस्सा बर्दाश्त करता है, तो इतने ऊंचे ओहदे पर बैठे हुए इंसान से क्या यही उम्मीद रखी जाए कि उसे पता होने के बावजूद पिछले ग्यारह साल से इतने गंभीर मसले को हल नहीं करवा पाया.
जनता इस बात को सोचें इन ग्यारह सालों में कितने गुनाह हुए, कितने बलात्कार हुए, कितने बच्चे गायब हुए, कितने बुज़ुर्ग लोग क़त्ल कर दिए गए, बाकी चोरी चकारी, लूट-पाट और क्या क्या नहीं हुआ?

शीला मैडम का ये इंटरव्यू तो बस सहानुभूति बटोर कर २०१३ के दिल्ली चुनाव कि तयारी करने का प्रयास था. नहीं तो आज तक दिल्ली में दरिंदगी कि कितनी घटनाएं हुई , तब उन्होंने कहाँ कोई इंटरव्यू दिया. ये मजबूरी है जनाब के एक साल के बाद चुनाव सर पर होंगे.
और उनके इंटरव्यू के बाद उनके बेटे संदीप दीक्षित जी भी बचाव में कूद पड़ें, तो समझ लीजिए के वे विरासत सँभालने कि तैयारी में लग गए हैं.
दिल्ली में बलात्कार विरोधी आन्दोंलन में जब कुछ असामाजिक तत्व कि उपस्थिति पायी गयी तो यह भी सोचना चाहिए कि इसमें किसी राजनीतिक दल का ‘हाथ’ तो नहीं?

क्योंकि जब भी एक बड़ा आंदोलन खडा होता है तो सरकार को बेचैनी होती है. यही स्थिति अन्ना के और रामदेव जी के आंदोलन के समय भी देखी गयी. क्योंकि सामाजिक समस्याओंके के लिए लोग इक्कठे हो यह राजनीतिक दल बर्दाश्त नहीं कर पातें हैं. क्योंकि वो अच्छी तरह जानते हैं जहां लोगों में एकता आयी वहाँ उनका अस्तित्व खतरे में पड़ जाएगा.
हाँ, शीला मैडम के राज में बच्चों, महिलाओं , बुजुर्गों, विद्यार्थियों पर जो लाठीचार्ज हुआ उसका क्या?
और, ध्यान बटाने के लिए वो खुद ही इतनी मांगे कर रही है, तो फिर इन समस्याओं को सुलझायेगा कौन? और अगर वे नहीं सुलझा सकती तो इतने साल से मुख्यमंत्री बने रहने का क्या मतलब है?

(एक हमारे प्रधानमंत्री है जो कभी ‘डीपली डिसअप्पोइंटेड’ होते है तो कभी ‘डीपली सैड’ होते है, आपको भी ऐसा ही महसूस हो और जवाब न सूझे, तो आप भी १९७३ कि अमिताभ कि फिल्म ‘बंधे हाथ’ का किशोर का गाया गीत ‘देखो ये मेरे बंधे हाथ ..’ सुनकर या गाकर अपनी मजबूरी को बहला सकते हैं).

शिंदे साहब, शीला मैडम ! सोनिया जी कि चिट्ठी मिली क्या?

मित्रों, पिछले दिनों दिल्ली में हुई बलात्कार कि घटना के संदर्भ में जब सोनिया जी ने, कांग्रेस अध्यक्षा के नाते, अपनी ही पार्टी के केंद्रीय गृह मंत्री और एक राज्य – दिल्ली – कि मुख्यमंत्री को चिट्ठी लिखी तो मेरे मन में स्वाभाविक रूप से कुछ विचार आये जो आपके समक्ष रखता हूँ. इसमें कोई दुर्भावना नहीं है, भावना यही है कि ‘बलात्कार’ जैसे अपराधिक मामलों में कडा कानून बने और उनका निपटारा – आरोपियों को सज़ा दिलवाना – जल्द से जल्द हो.

‘चिट्ठी’ इस शब्द से मुझे बचपन से ही बहोत आकर्षण रहा है, और आज भी जब कभी मैं अपने कार्यालय से या बाहर से घर बात करता हूँ, तो ये जरूर पूछता हूँ के ‘आज कोई डाक आयी क्या?’.

लेकिन जब सोनिया जी ने एक गंभीर घटना को लेकर चिट्ठी लिखी तो, सबसे पहले तो ये विचार आया के आज के ‘समस’, ईमेल, मोबाइल या ‘ब्लैक-बेरी’ के ज़माने मे उन्होंने चिट्ठी क्यों लिखी. वैसे पिछले कई सालों से कई मामलों में वे चिट्ठियाँ लिखती आ रही हैं, अब सवाल ये है कि आजतक उन्होंने जो भी चिट्ठियाँ लिखी वो सामनेवाले को मिली क्या? अगर मिली, तो उस पर क्या कार्रवाई हुई? , क्योंकि जिसको चिट्ठी लिखी जाती है वो कभी बताता नहीं कि ‘हाँ, मुझे मैडम जी कि चिट्ठी प्राप्त हुई , और मैंने इस पर ये कदम उठाया या मैंने ये अमुक अमुक चीजें कि जो कि समस्या का समाधान करेंगी, या फिर समस्या को कम करेंगी, या फिर समस्या से छुटकारा दिलाएगी!’
अगर कारवाई हुई है तो ये हमारे लिए सौभाग्य कि बात है, और नहीं हुई तो कहीं ऐसा न हो कि आज तक उन्होंने कितनी चिट्ठियाँ लिखी और उन चिट्ठियों का क्या क्या हुआ , इसकी भी जानकारी कहीं हमें ‘आर टी आई’ से ना लेनी पड़े?
आशा है कांग्रेस वाले अपनी पार्टी अध्यक्षा कि ‘चिट्ठी/या चिट्ठियों’ पर जल्द से जल्द कुछ ‘फीडबैक’ भारतीय जनता को देंगे और जनता को अपने (इन चिट्ठियों से सम्बंधित) किये गए कार्यों कि जानकारी देंगे.

वैसे इस सब माहौल में आशा कि किरण यही है कि अब जनता जागरूक हो गयी है और अपना विरोध दर्ज करने लगी है, वरना तो कई ऐसे मामले है जहां हर रोज इज्ज़त तार तार होती है और आम इंसान कीड़े मकौडों कि तरह मसला जाता है.

( अरे ….‘आरुशी हत्याकांड’ मामला सुलझ गया क्या?…., और वो जो बच्चों के नर कंकाल मिले थे उसमे किसी को सज़ा हुई क्या?, मुंबई में एक लड़की को बचाने में एक युवक कि जान गयी , उसमे गिरफ्तार लोगों को सज़ा होगी क्या?, पंजाब में एक पिता ने अपनी बेटी को बचाने में अपनी जान गंवाई वहाँ अपराधियों को सज़ा होगी क्या, उत्तर प्रदेश में लड़की को ज़िंदा जलाया था – दोषियों को सज़ा हुई क्या?, लड़कियों पर तेज़ाब फेंकने वाली कितनी घटनाओं में अपराधियों को सज़ा हुई?
…. सॉरी ! मैंने उन सभी जगह चिट्ठी (?) नहीं भेजी है ! )

भ्रष्टाचार जिंदाबाद !!!

आज विजयादशमी के पावन पर्व पर जहां भिन्न भिन्न संगठन विजय दिवस मानते है, रैलियां निकालते है, हमने सोचा क्यों ना ‘भ्रष्टाचार’ कि सफलता में एक रैली आयोजित की जाए.
साथ में ‘भ्रष्टाचार’ से ‘ओतप्रोत’ होकर ‘घोटालों’ में ‘आकंठ’ डूबे ‘नव-उन्माद’ के साथ ‘अति-गौरवान्वित’ होकर एक भाषण भी आपके सामने प्रस्तुत कर रहा हूँ. ताकि भटक न जाए हम ‘घपलों’ , घोटालों’ और ‘भ्रष्टाचार’ के इस ‘पावन’ रस्ते से और ‘हासिल’ कर ले ‘भ्रष्टाचार’ में वो मकाम कि ‘भारत’ जैसे ‘महान’ देश में पैदा होनेवाली भावी पीढ़ी को इसका स्मरण रहे.
स्मरण रहे, कि जिस भूमि पर केवल ‘२३ साल-०५ महीने-२५ दिन’ कि आयु में देश पर मर-मिटनेवाले भगतसिंह जैसे महान क्रांतिकारी का जन्म हुआ वहीँ पर ऐसे ‘सफेदपोश’ ‘डकैतों’ ने जन्म लिया जिन्होंने अपने स्वार्थ के लिए अपनी ही ‘माता’ का ‘चिर-हरण’ किया और ‘१२० करोड’ कि संख्या में ज़मीन’ पर रेंगनेवाले मानवरूपी मजबूर ‘कीड़ों’ ने यह तमाशा अपनी ‘खुली’ आँखों से , अपने खौलते (?) हुए खून को ‘ठंडा’ कर सालों साल तक देखा. )

(भाषण से पहले)
(पार्श्व में धुन बजती है – ‘मन रे’ गा तू –सी डब्लू जी के गीत, ए जी- टू-जी -थ्री-जी और घपले करो जी, हम काले है तो क्या हुआ कोयले वाले हैं, हम भ्रष्टाचार का एवेरेस्ट चढ़नेंवाले है, अम्मा ! यह छोटे घोटाले तन्दाना – यह बड़े घोटाले तन्दाना.. . कोरस में जानवरों का समूहगान – मेरा चारा खा गए नेता , देखो मेरा चारा खा गए लीडर… कुछ किसानों के परिवार कि सिसकियाँ – कुछ बलात्कार से पीड़ित अबलाओं को चीख-पुकार, जिन्हें दो वक्त रोटी नसीब नहीं होती उनका शोर,
‘प्रशासन’, ‘सु-शासन’ और ‘दुशासन’ कि मारी लाचार जनता का आक्रोश…(अंत में एक थकी हुई कांपती आवाज़ सुनाई देती है ) ‘ ए ‘कोल- ..गेट’ क्या .. है मेरे भाई’, और इतना कोयला कौन खा रहा है, आज खुदा से पूछूँगा…. )

मेरे प्यारे देशवासीयों,

आजकल जोर-शोर से ‘भ्रष्टाचार’ के मामले हर दिन चर्चा में है. नए नए घोटालों के खुलासे हो रहे है. कुछ सिरफिरे लोगों ने हमें ‘सफ़ेद-पोश’ डकैत करार दे दिया है. नित नए कीर्तिमान इस क्षेत्र में नित नए ‘बड़े बड़े नामवाले’ लोगों के साथ जुड रहे है. हर ‘पार्टी’ से इस मुहीम में योगदान भी मिल रहा है. वैसे तो ‘किसानो’ के खुदकशी पर रोने के लिए कभी हम लोग इक्कठे नहीं हुए- तब हम अपनी अपनी पार्टी कि बात करते है- लेकिन भ्रष्टाचार पर एक दूसरे का बचाव करने के लिए राजनेता ‘पार्टी लाइन’ से ऊपर उठकर, ‘अभूतपूर्व’ एकता का प्रदर्शन कर एक दूसरे का साथ दे रहे है. पुरे राष्ट्र में एक ‘भ्रष्ट-लहर’ काम कर रही है, ‘घोटालों’ में नव-चेतना का संचार’ हुआ है.
हमारे देश में अब तक कितने ‘घपले’- ‘घोटालें’ हुए इसकी जानकारी तो आपको हर जगह एवं ‘इन्टरनेट’ पर मिल जायेगी. इसीलिए इसकी चर्चा हम नहीं करेंगे और ना ही इसका हिसाब करेंगे. हम तो बस इसमें और आगे कैसे बढा जायें और कैसे नए कीर्तिमान इस क्षेत्र में स्थापित करें इसका ‘गुण-गान’ करेंगे !!!

चारों तरफ ‘बदहाली’ कि ‘खुशबू’ (?) फिजाओं में घुल गयी गयी है. किसी को किसी कि पड़ी नहीं है. लोग जात –पात, धर्म –मजहब और तो और छोटे छोटे गुटों में बंट गएँ है. रोटी कि जुगाड में आबादी का सबसे बड़ा हिस्सा इस तरह जुटा हुआ है कि उसे और चीज़ों से कोई मतलब नहीं रह गया है. अपने अपने स्वार्थ के लिए राजनीती में गठबंधन इतने ‘बेशर्म’ और ‘अनैतिक’ हो गए है कि ‘सरकार’ का किसी के ऊपर कोई बस नहीं चलता है, और अगर उसका बस चलता है तो ‘सरकार’ टिक नहीं पाती है. कानून का राज़ खत्म सा हो गया है. ‘मानवाधिकार’ और ‘महिला आयोग’ या ‘बच्चों के अधिकारों कि रक्षा के लिए बनाये गए संस्थान’ ‘किसी सुखद सपने’ कि तरह हो गए है. ‘जुर्म’ इस कदर हावी है कि ‘जिसकी लाठी- उसकी भैंस’ कि जगह अब तो ‘जिसकी लाठी-उसीका राज’ वाली स्थिति आ गयी है.
सामाजिक एकता खत्म हो गयी है. लोगों का एक दूसरे पर से विश्वास उठ गया है. लोग एक दूसरे को मारने पर उतारू है, भ्रष्टाचार के पनपने के लिए एकदम सही माहौल है. नागरिक संवेदनहीनता चरम पर है. सड़क पर इंसान दम तोड़ता है, तो समाज नपुंसक बना देखता रहता है.

लोगों ने देश को राजनेताओं के हाथ सौंपकर इस तरह ‘हाथ’ झटक लिए कि है कि जैसे उनका इस देश से कोई लेना देना ही ना हो.

एक ‘भ्रष्टाचारी’ को ‘जन्म’ लेने के लिए पूरी तरह से उपयुक्त माहौल है. हर रोज नन्हे नन्हे कोमल ‘भ्रष्ट’, घप्लू, और घोटालू जन्म ले रहे है, उन्ही कि हौसला आफजाई तथा देश को भ्रष्टाचार में नयी ऊंचाईयों पर ले जाने के लिए हमें जी-जान से प्रयास करना है.
हमारे समाज में ‘भ्रष्टाचार’ अब ‘शिष्टाचार’ हो गया है. इसलिए बेहतर होगा कि इसे संवैधानिक दर्जा देकर हर संस्था में लागु कर दिया जाये. भ्रष्टाचार न करनेवाले को इस के लिए तैयार करना हमारी पहली प्राथमिकता और उद्देश्य होना चाहिए, क्योंकि गलती से भी कोई ‘भ्रष्टाचार’ करने से वंचित न रह जाये. ‘सकारात्मक’ भ्रष्टाचार और ‘नकारात्मक’ भ्रष्टाचार पर सार्थक चर्चा होनी चाहिए ताकि इसमें नयी संभावनाएं पैदा कि जा सके और लोगों को नयी प्रेरणा दी जा सके. धीरे धीरे भ्रष्टाचार को ‘सामाजिक-आर्थिक- राजकीय (इस क्षेत्र में गलती से कहीं छूट गया हो तो)- धार्मिक’ -सभी क्षेत्र में प्रसारित कर इसकी एक ‘आचार-संहिता’ या ‘मार्गदर्शिका’ जिसमे ‘घोटाले’ करने के तरीके और हर काम का ‘कमीशन’ कितना हो इसका भी ‘सविस्तर’ विवरण दिया जाना चाहिए.
‘बलात्कार’, ‘खून’, ‘डकैती’, ‘फूटपाथ’ पर या और ‘कहीं’ लोगों को अपनी कार के निचे कुचलना,किसी महिला ‘कवयित्री’,सहकर्मी या कर्मचारी का ‘शोषण’ कर उसे मौत के घाट उतारना या ‘तंदूर’ में जलाना’, ऐसे या इससे भी संगीन जुर्म कर, कैसे ‘कानून’ के शिकंजे से बचा जाए – इस सब का ‘ट्रेनिंग’ भी दिया जायेगा , ताकि भ्रष्टाचार और जुर्म का ‘चोली-दामन’ का साथ बना रहे.
आगे चलकर फिर ‘सर्वश्रेष्ठ भ्रष्टाचारी’ को चुनना, ‘कलात्मक’ तरीके से किये गए भ्रष्टाचार को ‘सम्मान’, ‘एक्स्सल्लेंस इन करप्शन’ अवार्ड हर साल के लिए, फिर फिल्मों के नाम जो ‘घोटालों’ पर आधारित हो, घोटाले करने के तरीकों कि किताबें- जैसे कि ‘भ्रष्टाचार’ करने के १०१ तरीके, ‘सफल घोटालेबाज कैसे बना जाये’,’करप्शन’ पर लिखी गयी सर्वश्रेष्ठ किताबे, बच्चों के लिए ‘छोटा-करप्शन’- ‘करप्शन- टॉय्स’- ‘घप्लू-गुड्डा’ और ‘रिश्वती गुड्डी’ कि कहानियाँ, ‘जांबाज़-भ्रष्टाचारी’ के कॉमिक्स, और सबसे ऊपर ‘भ्रष्टाचार’ पर एक ‘अंतर्राष्ट्रीय –मानक’ जो हमारे सिवा शायद ही कोई लिख पाए ?,
इसके बाद सफल भ्रष्टाचारियों से प्रेरणा लेकर उनकी ‘सफलता’ का रहस्य’ उनकी ‘कार्य-प्रणाली’ पर संशोधनात्मक ग्रन्थ, फिर हर साल ‘भ्रष्ट-उत्सव’, ‘घोटालें-मेलों’ का आयोजन भी किया जायेगा.
किसी भ्रष्टाचारी के पकडे जाने पर ‘काला दिवस’ तथा ‘भ्रष्टाचारी’ को सजा होने पर ‘सात दिन’ का ‘राष्ट्रीय-शोक’ मनाया जायेगा.
आईये हम सब मिलकर ‘भ्रष्टाचार’ को नए नए ‘आयाम’ दें, इसे नयी ऊंचाईयों पर पहुंचाए, पुरे विश्व में इसे प्रचारित एवं प्रसारित करें. आओ हम सब मिलकर ‘भारत’ को एक महान ‘भ्रष्टाचारियों’ का देश बनाकर इसे चोटी पर पहुंचाएं ..
मौजूदा हालातों में जहां हर राजनीतिक पार्टी के सदस्य भ्रष्टाचार में लिप्त पाएं गए हैं और जिस तेजी से इसमें बढोतरी हो रही है , मुझे पूरी उम्मीद है कि वो दिन दूर नहीं के हम ‘इमानदारी’ को इस देश से पूरी तरह खत्म कर देंगे. जिस तरह हमने देश से ‘पोलियो’ को खत्म किया उसी तर्ज़ पर ‘दो बूँद भ्रष्टाचार कि’ कि मुहीम चलाकर हम ‘इमानदारी’ को जल्द से जल्द मिटा देंगे.
हम सब मिलकर उस ‘पावन-पुनीत’ ‘भ्रष्ट-प्रभात’ का स्वागत करें, और इसके सम्मान में आईये आप सब मेरे साथ मिलकर तीन बार बोलें – घपला जिंदाबाद ! घोटाला जिंदाबाद !! भ्रष्टाचार जिंदाबाद !!!