Little Women & Little Males by May Alcott Schedule of Activities

Create research targets that are apparent, brief.

On his blog, Orthodox-Reformed Bridge, Robert Arakaki, an Eastern Orthodox writer, gives some incredibly interesting evaluations of the Protestant (and specifically Reformed) knowledge of Nov Adam and Eve and its own consequences about the people. The push of his review is the fact that the Protestant Reformers relied too heavily (almost entirely) on Saint Augustine in articulating their doctrine, overlooking the “patristic consensus”. Specifically, Arakaki things to Irenaeus of the Next century “Irenaeus considered Adam and Event were not developed as fully adult beings, but as children or children who would develop into perfection. This fundamental assumption results in paradigm that is theological that is substantially distinct.” Let us look closer and comparison Augustine and Irenaeus. 1. How dependable was Adam for the Slip and what did the Fall do towards the people Pricing John Hick, Arakaki says that Irenaeus photos the Slip “as something that happened inside the youth of the competition, an understandable lapse because of immaturity and weakness in place of an adult transgression high in malice and pregnant with continuous shame.” Arakaki endeavors to exhibit that Augustine with this issue has not followed Irenaeus more than Eastern Orthodoxy. While Arakaki is right to point out that Augustine does not have a monopoly on how to understand the Slip (there was a multiplicity of opinions among the church men), the million-dollar question isn’t which cathedral dad got it right, or whether one church father should really be implemented or the patristic consensus.

[1] it could also make as though you havenot regarded your audience or you seem sluggish.

The million dollar issue is what the apostles trained about the subject. In v, the apostle says in Romans 5, the significant chapter about them in Scott’s documents. 17, ” For if through the one, death ruled from the trespass of the one; a lot more will individuals who get of the surprise of righteousness rule and grace’s plethora Yeshua the Messiah, through the one in existence.” Henry is likening Adam saying that just like Adam plunged the entire individual race in to a state of death, so the human race has been, through resurrection and his death, used by Jesus. In the sentiments that are next, John says, “So then as all men were bound… For through the one mans disobedience many were made sinners.” Other things that Robert says, he is currently interacting that had Adam not disobeyed, demise would not have inserted the human race and also the contest would not remain under Godis only disapproval. Through Adam’s failure “many” (the complete human race) were made sinners. This seems to imply (as Augustine taught) that Adam’s crime was passed down to his descendants to ensure that whereas Adam was made “excellent” within the sight of Lord, currently every descendant of Adam is born having a sin nature–a will normally prepared away from God. Pricing John Hick again, he affirms that while Augustine noticed the Slide as an ” affair that is utterly malignant and disastrous, totally disrupting Irenaeus, Gods plan… Considers the world of mingled unpleasant and good being a divinely appointed setting for mans advancement towards efficiency.” This nearly means that the Fall itself was sort of prepared just because a world that is decreased was the surroundings needed to support people reach efficiency.

Listen carefully to ideas for culls, rewrites and changes for your work.

Genesis 1 helps it be clear the planet God planned was ” great “. Sin, death problems, nausea–every one of these things that are therefore common-place in this decreased world could be missing by disobeying had Adam not exposed the world to Lord’s wrath. Despite having their increased exposure of divine sovereignty, from contacting this sin, Calvinists shrink back -cursed earth a ” divinely designated environment” for individuals. That type of description sounds to personal statement services website http://personal-statements.biz| what Latterday Saints say regarding the slide, dangerously close, conveying it as an overall change for the greater. John does n’t be squared with by this type of watch. Genesis 3 makes it clear that Adamis sin caused the floor to become cursed and Eve’s sin ushered in the curse of pain and discomfort. Their failure induced them to be banished from Backyard of Eden, removed from personal statements by here http://personal-statements.biz| God’s profile. Scott explains that the human race was brought by Adamis sin in to a state of spiritual and actual demise.

Step 9: quit the work place for those who have to.

Just how can this be termed an “clear lapse” Arakaki said, “Augustine suspected that Eve and Adam were mature adults when they sinned. This prediction led to a more catastrophic comprehension of the Slide. Nonetheless, Augustines comprehension wasn’t reflective of the patristic consensus and represented just one reading of Genesis.” Arakaki accused Reformed churches of experiencing also slim and “provincial” a knowledge of the Slide, not giving due awareness of different church men besides Augustine. Nonetheless, if Irenaeus is rep of the opinion that is patristic, it truly is little surprise that Cool Christians prefer Augustine above the rest. Augustine’s interpretation rings true-to Paul’s writings whereas Irenaeusis doesn’t. How could his selection experienced such farreaching outcomes as Romans 5 explains, if Adam was not a mature person 2.

And when that is the event, realize you’re not the initial female to generate this development.

Do any find God of the own volition Arakaki also requires issue with the Calvinist affirmation that, as a result of our pure decreased state, we do not possess the ability to seek Lord or believe in Lord until we are first regenerated by the Spirit. For instance, he points to Robert’s speech towards the group in Athens (Acts 17): “Paul commends the Athenians for their piety, noting they also had a church dedicated to an unknown deity. While they were prevented by their fallen nature from creating full-contact together with the one correct Lord, they nonetheless stored a longing for communion with God. ” This travels inside Calvinism’s experience, Arakaki stated, which asserts that none seek after God. Although the Athenians did infact have a towards the “unidentified god”, this scarcely illustrates that they naturally maintained a “longing for communion.” Believing that deities occur and believing that altars pacify them in some way, and thinking that there could be deities you’re uninformed of and that means you’d better have one noted “unknown”, in the event there’s an unknown lord who would otherwise get crime at being ignored–these are morals that resonate more with paganism with Christianity. Functions 17 may very well be explaining people that didn’t at all having a “desiring communion with God”; they have to just be people who are working from the pagan background and want to make sure all of their angles are coated. Arakaki rates Acts 17:26-27 where Scott says, ” from guy he made every nation of males, which they should inhabit the entire earth; and he decided the changing times arranged for them-and the exact sites where they need to stay.

Lean sheets of product that is sporting or duct provide a glance just like brushed stainless.

Lord did this to ensure that guys perhaps touch base for him and might find him though he’s not definately not every one of us.” Interpreting the penetration “What Henry says here flies in the Canons of assertion’s experience that the unregenerate were not capable of spiritual starvation.” Functions 17 does not in any way not in favor of the fact no-one attempts God by nature. If their ceremony towards the unidentified god was indicative of authentic spiritual starvation on the part of the Athenians (and this is inconclusive), this couldnot confirm that such hunger can exist besides Lordis regenerating energy. This is because Lord provided them this type of need–a desire they, inside their fallen character, might do not have mustered up-on their very own when the Athenians truly had a longing to understand the real Lord. Speaking, folks reach out for Lord in order to find him. The Bible as a whole, though, helps it be clear because we were first liked by him that people appreciate God — we select him because he prefers us find him because he first wanted us. Robert didn’t feel people did find Lord of the own free will or can, and he makes this apparent in Romans 3:11 where he quotes King David, “There is no body who understands. There’s no-one who tries God.” 3.

So, if you have no hint a couple of query that is unique, guess away!.

Seeking ground that is common Arakaki argues from the Calvinist understanding of predestination (that God unconditionally elects to answer sinners who would never and might never arrive at God of their own volition) around personal statement writing website here http://personal-statements.biz| the reasons the Tumble, whichever consequences it had, didn’t abandon mankind therefore reduced regarding not be able to achieve out and easily choose God. Protestants and Orthodox recognize that the people is decreased and that Eve and Adam are in some perception at fault for that. Orthodox aren’t Pelagian–they are doing imagine individuals are blessed with a nature that is fallen. The issue is actually an issue of stage–how fallen Quoting Ephesians 2:1, Reformed Christians typically demand that the human race in its organic state is not simply deseperately mentally tired, but truly lifeless (“You hath God quickened who were dead in your trespasses and sins”). If our pure religious state is one among psychic demise, then God must resuscitate us, as we say, before we are in a position to select Christ. If Protestants have by and large confirmed Augustineis training with this issue, the reason being his training could be using what the Paul said, the one that most sections. Protestants are sometimes dubious of the Eastern Orthodox Church since it doesn’t legally understand ” failure “‘s doctrine, at the very least not as the Western Church has traditionally described it. You can find authentic variations between Protestants on this issue, while to some extent the differences are in what is emphasized and precisely how things are defined much more than what’s basically thought. God supply elevated unity on this subject to both churches.

आरक्षण … (Reservations Unlimited!!)

(My old post of 06.08.2011 (then published in http://nai-aash.in re-blogged today)

आरक्षण का ज़ोर है, आरक्षण का शोर है,
आरक्षण का देश हमारा, आरक्षण चहुँ ओर है,
‘आरक्षण’ चाहे तो करवा दे ‘चक्का जाम’,
आरक्षण के बिना नहीं चलती यहाँ ‘सरकार’ तमाम,
यह ‘दान’ है या ‘वरदान’, नहीं जानता मैं,
पर दे दो मुझे भी ‘आरक्षण’ लो आज मांगता हूँ मैं,
मेरी ‘सूची’ चाह कर भी ‘छोटी’ नहीं होती,
‘आरक्षण’ चीज़ ही ऐसी है कि ‘लालसा’ मेरी ‘कम’ नहीं होती,

क्या नहीं मिल सकता आरक्षण ‘अन्न’ का उनके लिए,
जिन्हें नहीं है नसीब दो वक्त की रोटी भी,
क्यों न कर दे रोज़गार आरक्षित बेरोजगारों के लिए,
और ‘सहारे’ कर दे आरक्षित ‘अनाथ’ बच्चों के लिए,
दे आरक्षण महिलाओं को शोषण और हिंसा से,
बचाएं बालिकाओं को छेडछाड और दहशत से,
‘कोमल’ सपनों को ‘बचालें’ ’रैगिंग’ के ‘दानव’ से,
हर जख्मी को मिले उपचार का आरक्षण,
‘न्याय’ रहे आरक्षित बेगुनाह और पीड़ित के लिए,

आओ कर दें हम आरक्षित इस देश के लिए,
सच्चे नागरिक,सत्यप्रिय और ईमानदार जन सेवकों को,
बहादुर-जांबाज़ सिपाहियो के लिए सम्मान को और
उनके परिवार जनोंके लिए समाज में गौरव को,
देश को रखे दूर ढोंगी-स्वार्थी -भ्रष्ट नेताओं से,
रहे सतर्क हमेशा लालची राजनीतिक पार्टियों से,
हम समाज को दें ‘हिंसा-मुक्ति’ का आरक्षण ,
रखे सुरक्षित इसे लूट-अपहरण-डकैती-बलात्कार से,
और जनता को बचाएं,आतंकवाद तथा दुर्घटनाओं से,

इस पूरी प्रणाली को बचाएं नपुंसक नाकारा लोगों से,
आओ इस धरा को रखे सुरक्षित प्रदुषण के खतरों से,
इंसानियत को दे आरक्षण सदभाव और प्रेम का,
‘सामान्य जन’ को दे आरक्षण ‘जीवन’ और ‘विश्वास’ का,
आशा को मिले विश्वास का, विश्वास को श्रद्धा का,
श्रद्धा को समर्पण और समर्पण को सम्मान का,
विकास को समृद्धि और समृद्धि को प्रगति का,गर मिले आरक्षण
– नहीं होगी इस पर कोई ‘राजनीती’ जब,
सही मायनों में सफल होगा ‘आरक्षण’.. तब !

विश्व पर्यावरण दिवस पर विशेष – कहाँ पे जाये कचरा … !!

(आज विश्व पर्यावरण दिवस के साथ साथ हम इस ब्लॉग की सातवीं सालगिरह भी मना रहे है.
इस अवसर पर इस ब्लॉग के संस्थापक सदस्य मेरे मित्र श्री. आशीष तिलक तथा श्री. भरत भाई भट्ट को, और आप सभी पाठकों, मित्रों को ढेरों शुभकामनाएं )

हम लोग कितना कचरा निर्माण कर रहे है, इसका अंदाजा भी शायद हम नहीं लगा सकते. लेकिन एक सफाई वाले कि नज़र से देखे और सोचे, तब पता चले कि यह विषय कितना गंभीर है.
मैं इस सम्बन्ध में ‘सांख्यिकी’ या ‘आंकड़ों’ के पचड़े में नह पड़ना चाहता. क्यों कि मैं जानता हूँ कि वास्तविकता कहीं ज्यादा भयंकर है और आंकड़े इस समस्या के समाधान का, या इसमें दिन –ब-दिन जरुरी सुधार का पैमाना नहीं बन सकते और न ही बन पाएंगे.
हजारों लाखों टन कचरा हर रोज हमारे आस-पास परिसर में लाकर ढेर कर दिया जाता है. इस कचरे का फिर क्या होता है? ये कूड़े का ढेर आखिर किस सागर में समाता है ? क्या अलग अलग तरह का कचरा छंटनी किया जाता है? क्या पुनः चक्रित होने वाली चीजों को पुनः प्रयोग करने के लिए प्रकिया में लिया गया है? क्या हर चीज़ को उसकी विशिष्टता के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है/ किया गया है?

क्या प्रदुषण न फैले इसका ध्यान रखा गया है? और सबसे बड़ी बात कही कोई अवशेष बाकि तो नहीं रह गए है. क्या हर वस्तू का उसकी विशिष्टता के आधार पर उचित निरूपण किया गया. जो खतरनाक और घातक रसायन या अपव्यय है उनके निबटारे में क्या जरुरी सावधानी बरती गयी है.

जिंदगी कि भाग दौड़ इतनी तेज हो गयी है कि किसी के पास यह सब सोचने और उस पर मंथन करने का समय ही नहीं मिल पा रहा है.
परिणाम है प्रदुषण – महा भयंकर प्रदुषण, प्रकृति के ऋतू चक्र में बदलाव , वातावरण में परिवर्तन. शायद इसीलिए अब बारिश में वैसी बारिश नहीं होती जैसे हमारे बचपन के दिनों में होती थी. अब तो कभी आधे किलोमीटर परिक्षेत्र में बरसात होती है तो थोडा आगे जाते ही आपको एकदम सुखा भी मिलता है. अब घनघोर वर्षा तो होती है लेकिन लगातार नहीं होती , कई दिनों तक तो होती ही नहीं.
और बीते हुए कुछ वर्षों में ‘जलवायु’ में जो बदलाव देखे गए हैं उससे हम सब अछि तरह वाकिफ है ही , जैसे की – इस साल भीषण गर्मी पड़ी, कई शहरों के तापमान में साल दर साल बढ़ोतरी हो रही है, पिछले साल कहीं भीषण सूखा पड़ा, तो कहीं भीषण बाढ़ आयी, और बारिश औसतन कम रही, जब ज़रूरत थी तो बारिश नहीं आयी, और जब आयी तो बर्बादी लेकर. यह सब घटनाएं पर्यावरण में बदलाव के संकेत है, जिससे हमें सबक लेना चाहिए. और प्रकृति के बचाव के लिए हर संभव प्रयास करने चाहिए.
जो स्वच्छता मुहीम २ अक्तूबर से चलायी गयी, उस पर कहाँ और कितना अमल हुआ इसका भी समय समय पर समीक्षा होनी चाहिए. क्योंकि पिछले कुछ दिनों में मुझे कई बार कार्यवश कुछ बड़े-छोटे शहरों कि यात्रा करनी पड़ी और वहाँ ज्यादातर मैंने पाया कि ‘गन्दगी’ का ‘साम्राज्य’ अभी भी जारी है.
दुःख इस बात पर हुआ कि उन् शहरों के जो प्रमुख सरकारी दफ्तर है जो जिला-स्तरीय कार्यालय है उनके पास तक ‘कूड़े-कचरे’ का ढेर पाया गया और प्रतीत होता था कि वहाँ पर कई कई दिनों तक सफाई हुयी ही नहीं है और होती भी नहीं है.
(कुछ दिन पूर्व अहमदाबाद से वड़ोदरा जाते हुए एक्सप्रेस-हाईवे से पहले अहमदाबाद शहर का कूड़े का ढेर देखने को मिला, जिसको शहर से बाहर इक्कठा कर जलाया जाता है, ये ढेर अपने आप में एक बड़े ‘टीले’ में तब्दील हो गया है और दिन ब दिन इसका स्वरुप्प और विकराल होता जा रहा है.)

तो हमारी ‘अनास्था’ का दौर अभी जारी है. हमारी ‘बेरुखी’ अभी ‘खत्म’नहीं हुयी है !!

और जाहिर है कि केवल किसी एक दिन अगर प्रधानमंत्री हाथ में झाड़ू लेकर सफाई करेंगे और सोचेंगे कि सब कुछ सही होने जा रहा है, तो वैसा नहीं होगा. लोगों को स्वयं ये जिम्मेदारी उठानी पड़ेगी. और तो और जो लोक प्रतिनिधि है उन्हें तो विशेष प्रयास करने होंगे और उन्हें ये करने भी चाहिए क्योंकि राज्य में या जिले में वे एक ऐसी सरकार का प्रतिनिधित्व कर रहे है, जिसने देश में बदलाव लाने कि बात कही थी, जिसने ‘घिसे-पिटे’ तरीकों से लोगों को ‘निजात’ दिलाने का वायदा किया था (चुनाव से पहले). लेकिन लगता है सरकार नयी नयी योजनाएं शुरू कर और उनका ढिंढोरा पीटकर खुद ‘घिस-पीटकर’ वापस ‘सत्ता’ कि ‘हसीन’ दुनिया में खो जाती है …फिर आज एक टीवी चैनल पर साबरमती नदी में कूड़ा-कचरा फेंकते हुए कुछ लोगों को दिखाया गया और उनसे पूछे गए सवालों का जिस ‘बेशर्मी’ से इन लोगों ने जवाब दिया,  उससे जाहिर होता है की अभी भी हमारे देश और देश के संसाधनों के प्रतिप्रति, पर्यावरण की रक्षा के प्रति और यहाँ तक की हमारे बच्चों के भविष्य के प्रति हम कितने उदासीन और संवेदनहिन् बनते जा रहे है … ऐसे में टनों टन इकठ्ठा हो रहे ‘कचरे’ की परवाह कौन करता है …

‘Jan Gan’ ke ‘Man Ki Baat’ – Deeply Disappointed or Hopes Alive?

The NDA government at the Centre has completed a year in office.

During the previous UPA government’s term from 2009 to 2014, in 2009 while assuming the power in its second term after 1999 the earlier Congress government, had promised a lot to achieve in their first ‘100 days’, and which we all know what they achieved, leave alone the first ‘100 days’, but even during the whole term of five years.

So, when the Country went to poll in April-May 2014, the urge for an ‘overall change’ in the public brings in the new BJP government at the Centre.

When BJP come to power a media house conducted a ‘survey’ asking the people their ‘hopes from the Modi government’ (wherein I also get a chance to share my views with them)

It was on 23rd of May, that I contact them and send a mail, wherein I refer them two posts on my blog and I write to them as below;

‘Till I forward my list of hopes one by one, I would like to share these links from ‘Samajshilpi’ blog of poems and articles related to Namo

Bharat Namo Namaah:
Namo Bharat:

And later on, on 26th May I had specifically sent this message then;

‘We hope the new government totally accountable towards the public and will establish law and order in the society. It should establish the ‘rule of the law’, should instill faith in the public, should rebuild INDIA as a ‘living soul’ and would promptly react to the problems of ‘common man’…”

Apart from the above when the agency called to me on 26.05.2014 (I hope I am correct) I told them that what I wish to see after this government’s taking over was an ‘overall change in the attitude’ of the government machinery towards people and this government will ensure to awake the ‘soul of the nation’ taking all into one thread and helping in to build an “atmosphere of peace and harmony” among the people of India.

So, if we have to assess the improvements under the new government at the center, we can do this only by tracking with our hopes and aspirations from the new government or the disappointments from the earlier UPA rule or the reasons for which people vote for ‘change’.
On 28.04.2011 I had written this article ‘Deeply disappointed’ wherein I had mentioned my thoughts about the various issues and the sentiments about the social issues that we ‘the people of India’ are concerned with.
It was the time, when the movement led by Anna Hazare was in full swing and the country embarked upon a new beginning …
I am reproducing the same article below again and wish that the readers share their views and comments about how they view these issues and there dealing with by the new government – the ‘Namo’ government.
While the media took on the ‘Performance’ of the new government within the last one year I think it is better to assess where the ‘common man’ stand today after ‘four years’, and not after ‘one year’, since the ‘issues’ concerning with the general public matters much more, irrespective of who came to power.
And I am sorry to say that, inspite, of the ‘hope’ and the ‘hype’ for development and ‘acche din’, there are still many core issues that this government needs to tackle with..

I hope that the ‘list of disappointments’ given in the below article rightly expresses our ‘Hopes from the Namo Government’ and the ‘grave areas’ where this government still needs to put in ‘serious and sincere efforts’…
अविनाश (Scrapwala) ની રચના April 28, 2011
(‘Deeply disappointed ’…सा)

When our respected Prime Minister expressed his ‘deep disappointment’ over Anna Hazare’s fasting, it left me hurt, and the many disappointments that I feel time to time and in our daily routine which gets backtracked with time, started hammering me.
These are the ‘disappointments’ that I carry and for that matter most of my fellow countrymen also carry, but we do not let our respected PM know (?) all these.
Now, taking this opportunity I would like to let our PM knows how much disappointed we are; I feel disappointed because still after 62 years of independence many of us are still deprived of basic amenities, many do not get food and die of starvation, ‘shelter’ for all is still a ‘dream’, many villages are still without ‘electricity and ‘power-cuts’ & ‘load-shedding’ continue to remind us that ‘development’(?) is still a ‘distant dream’. Even we do not have ‘pucca’ road at many places and wherever they are the condition is not good and the roads are not repaired and maintained properly.
Atrocities on children have increased, children lost are not traced back, Rape and Ransom killings have become a social menace, cricketers are paid more than the jawans who lost their lives while fighting at border and in house with Maoists, naxalites and mafias.
We are absolutely helpless on the increasing Crimes, Rape, Ransom killings, Ragging and to add this the 4th evil R of our society –Reservation issues- which freely allows to loot the national property and all innocent suffers on account of road blockages-train blockages etc and moreover nation looses revenue on account of non-functioning of our day to day businesses.
When so many do not get food for even one time our MPs are served with subsidized food. Billion of rupees are wasted due to non-functioning of the Parliament. I feel very disappointed when maximum farmers commit suicide from the state which the Agriculture Minister belongs to.
Serious issues are easily politicized to reduce their gravity and public attention is diverted by creating fraction among society and their various groups.
I feel agonized when I cannot call back the non-performing and corrupt MPs and replace them with a new one.
When traffic restrictions during Ministers and Prime Minister’s visit left someone die because of not getting medical treatment or reach hospital within time, what should we feel like?
Our jawans are lost to frequently fighting infiltration in Kashmir whereas the likes of Afzal Guru and Kasab enjoy our hospitality in jails. Attack on parliament left many jawans killed and similarly we lost officers like Karkare in terrorist’s attacks but the ‘culprits’ and ‘masterminds ‘ are still alive. Martyr’s families are treated badly; even their widows are treated badly and terrorized by antisocial elements.
Where the common man is struggling to make both ends meet together Corrupted politicians and goons are really enjoying the party. Corruption is scaling newer heights and increased to such an extent that honest officers are burnt alive and harassed to the level that they commit suicide.
And to summarize at last- appointment of corrupt CVC, Sex scandals, sex-for-marks scandals, never ending scams, Inflation, price –rise, killing of RTI activists, aborting girl child, honor killings, Jessica –Mattoo murder, Nithari case, Aarushi case, railway accidents-unmanned railway crossings-crimes in trains, the innumerous murders and rapes reported and not reported, the central agencies and human rights cry for the criminals died in en-counter in Gujarat but sleeps when murders, rapes, burnt alive incidents took place in UP. Environmental issues are also politicized and used to discriminate between states. You as a ‘CEO’ of this country have to own this and responsible for all.
And last but not the least my respected Sir, a person like you instead of supporting Hazare’s movement
and welcoming his step was ‘disappointed’… and this is enough to disappoint all of us.
At least the public has not cheated you; they have given you a second term, But for the FOUR days of Anna’s fast we feel cheated by the ruling party and that too a party like ‘congress’ which took four days time to agree to Hazare’s demand.
(I have deliberately delayed the publishing of this post, so that the disappointments are not faded with time. I hope that the list will reduce with time instead of growing further).

Contd …

जन गण मन !!!

आज प्रधानमंत्री ने किसानों से अपने मन कि बात कही. विशेष कर उन्होंने भूमि अधिग्रहण कानून सम्बन्धी कुछ ‘भ्रम’(जो चर्चा में है) दूर करने कि कोशिश कि और किसानों से आग्रह किया कि वे उन पर विश्वास करें और इस कानून का समर्थन करें.
ऐसा नहीं है कि प्रधानमंत्री जी ने केवल यही बात की. उन्होंने हाल ही में हुयी बे-मौसमी बारिश और ओला वृष्टि से हुयी फसल कि बर्बादी को लेकर भी चिंता जताई एवं अपने सम्बंधित मंत्रीयों से इस बारे में कही गयी कारवाई का भी हवाला दिया.
लेकिन, कुछ प्रमुख टीवी समाचार चैनलों पर जिस तरह कि चर्चाएं इस ‘मन कि बात’ को लेकर हुयी और उसमे जो किसानों कि प्रतिक्रियाएं आयी, उससे साफ़ हो गया कि इस ‘मन कि बात’ को लेकर लोगों में और विशेष कर किसानों में निराशा का माहौल बना दिया.
या तो प्रधानमंत्री को सबसे पहले अभी जो फसल कि बर्बादी हुयी है और इससे जो किसानों का नुकसान हुआ है उस पर ज्यादा जोर देना चाहिए था या उनको आश्वस्त करना चाहिए था इस मामले में भी युद्धस्तर पर कदम उठाये जायेंगे. मगर ऐसा होता नहीं है.
क्यों?
क्योंकि या तो प्रधानमंत्री तक ज़मीनी हालात कि सही जानकारी उनके सम्बंधित मंत्री और पार्टी के लोग पहुंचाते नहीं है और न ही राज्य स्तर पर उनकी पार्टी के मुख्य मंत्री, अन्य मंत्री,सांसद, विधायक और नेता कोई ऐसे कदम उठाते है जिससे लोगों को लगे कि उनकी बात ज़रूर सुनी जायेगी. और जब ऐसा नहीं होता है तो प्रधानमंत्री कितना भी कहे कि ‘आप मुझ पर विश्वास कीजिये’, लेकिन बात बनती नहीं है.
ये बात भी सही है कि लोकसभा चुनाओं में तमाम जनता ने अकेले उनकी ही बात पर उनकी पार्टी को प्रचंड बहुमत से जिताया, मगर इसके बाद एक एक कर जो जनता के साथ छलावा हो रहा है उससे लोगों का विश्वास अब डगमगा गया है.
ये भी सही है कि प्रधानमंत्री लाख चाहे तो भी हर काम वे अकेले नहीं कर सकते. और उनकी तमाम योजनाएं तभी सफल हो सकती है जब खुद उनके मंत्री, सांसद, विधायक और कार्यकर्ता उतनी ही गंभीरता और संजीदगी से हर काम को अंजाम दे और ज़मीनी समस्याओं को समझ कर सरकार और लोगों के बीच एक सकारात्मक ‘सेतु’ का काम करे.
सरकार को कई मुद्दों पर नए तरीके अपनाने होंगे और समय समय पर जो मुद्दे उभर के आते है जो कि जन-मानस से जुड़े हुए होते है, ऐसे मामलों में सरकार को एक नयी पहल कर युद्ध-स्तर पर निर्णय लेने चाहिए और जनता के बीच ‘विश्वास’ का सन्देश पहुँचाना चाहिए.
जैसे कि बलात्कार, देश कि सीमा पर हमला, आतंकवादी हमला, कोई बड़ी दुर्घटना और सबसे महत्वपूर्ण कोई प्राकृतिक आपदा जैसे मामलों में युद्धस्तर पर करवाई करनी होगी. ऐसे मामलों में और विशेष कर जहां किसान लगातार आत्महत्याएं कर रहें हो, उनके ऊपर क़र्ज़ बढ़ रहा हो और फसलें बर्बाद हो रही हो वहाँ तो आपको हर हाल में युद्धस्तर पर करवाई कर लोगों का हौसला बढ़ाना होगा और उनकी समस्याओं को दूर करना होगा.
लेकिन आज तक कोई भी सरकार न ऐसा करते आयी है न करना चाहती है. लेकिन ‘बदलाव’ कि जिस हवा का हवाला देकर यह सरकार बनी है उसे आज के ‘सोशल मिडिया’ वाले दौर में लोगों कि भावनाओं को समझ कर, हवा का रुख देख कर, राष्ट्रहित को ध्यान में रख कर उचित कदम उठाने होंगे ही और यह सब जल्दी भी करना होगा.
‘रिपोर्ट आएगी तब देखेंगे’ वाला रवैया बदलना होगा !!
यह बात भी सही है कि लोगों को अपनी बात कहने का मौका भी प्रधानमंत्री जी ने ही दिया है. आजतक किसी प्रधानमंत्री ने अपने ‘मन कि बात’ इतनी बार लोगों से कि नहीं है.
लेकिन जब आप कुछ अच्छा करना चाहते है तो उसे संपूर्ण समर्पण से करना होगा और लोगों के ताने भी झेलने पड़ेंगे. अगर इस चर्चा को और ‘संवादात्मक’ बनाया जाता तो अच्छा होता. या किसानों को ही उनके द्वारा नियुक्त किये गए ‘प्रतिनिधि मंडल’ को इस चर्चा में शामिल किया जाता तो अच्छा होता.

आज कल ज्यादातर टीवी चैनल पर जो चर्चा होती है उसमे मुख्य ‘मुद्दों’ को भुलाकर आपसी विवाद कि स्थिति पैदा हो जाती और हर पार्टी के प्रवक्ता अपनी बात और काम को सही ठहराने में लगे रहते है, इससे सच कहीं बातों में उलझ कर रह जाता है और राजनीती असल मुद्दों को खा जाती है. तो फिर ‘सच’ और ‘झूठ’ का फैसला कौन करे. और जनता कि भलाई चाहनेवाला पक्ष कौनसा है यह कौन तय करेगा.
या तो फिर ‘मिडिया’ को ही कड़े शब्दों में सच जनता के सामने रखना चाहिए, और मुद्दों को ‘गोल-गोल’ बातों में और ‘आंकड़ों’ के जाल में उलझाकर न रखते हुए, वास्तविकता को जनता के समक्ष प्रस्तुत करना चाहिए.
और सरकार को भी ये ध्यान में रखना चाहिए कि देश के न.१ चैनल पर अगर जनता से ये आवाज़ आती है कि ‘प्रधानमंत्री’ झूठ बोलते है और झूठ ही बोलते रहे है तो फिर कहीं न कहीं ये असंतोष भविष्य के ‘चुनावों’ में सामने आएगा ही.

आया मौसम ‘सीसीटीवी’ का …

कूड़ा – करकट
(हमारे समाज का आइना)

… आया मौसम ‘सीसीटीवी’ का …

दोस्तों, यह लेख मैंने कई महीनों पहले लिखा था जब बार बार ‘सीसीटीवी’ कि चर्चा कुछ न कुछ बहाने से सुर्ख़ियों में थी. फिर कुछ कारणवश मैं इसे पोस्ट नहीं कर पाया.
तब ऐसी घटना घटी थी जब एक इंसान ने खुदकशी कि और वक्त रहते अगर सुरक्षा कर्मी ‘सीसीटीवी’ कि ‘फूटेज’ कि निगरानी कर रहे होते तो शायद इस शख्स को बचाया भी जा सकता था.

यह लेख भी मैंने अपने तरीके से सरल भाषा में लिखा है ताकि सामान्य जनता पर या ‘आम –आदमी’ पर इससे कोई और अधिक ‘बोझ’ न बढे !! क्योंकि आम आदमी अपनी रोज़मर्रा कि जिंदगी से ही इतना थक जाता है कि उसके बाद के समय में वह कोई भी अतिरिक्त कार्य (चाहे वह देशहित में ही क्यों न हो, करने हा हौसला नहीं जुटा पता है).

अब देश में फिर से ‘सिसिटीवी’ का ‘मौसम’ उफान पर है. कई जगह ‘सीसीटीवी’ लगाए जा रहे है. कई जगहों पर लगाने का विचार हो रहा है – केंद्र स्तर पर- दिल्ली में- अलग अलग राज्यों में – जहाँ नयी सरकारें आयी है वहाँ पर, इत्यादि.
(इसका मतलब यह भी निकाला जा सकता है कि ‘करोड़ों’ रुपयों का बजट इसके लिए आवंटित किया गया होगा, निविदाएँ मंगाई गयी होंगी, ठेके (?) दिए जा रहे होंगे या ठेकों कि नीलामी कि जा रही होंगी, या फिर ‘ऑन-लाइन’ प्रक्रिया चल रही होंगी. हम चाहे तो कुछ भी कयास लगा सकते है)

हमने ऐसा भी देखा है कि कभी-कभी ‘सीसीटीवी’ का जिक्र होता है तो आँखों के सामने एक नाकाम ‘कैमरे’ कि तस्वीर उभर आती है. क्योंकि हर समय यही सुनने को मिलता है कि ‘सीसीटीवी’ तो लगा हुआ था पर वह काम नहीं कर रहा था! तो क्या सीसीटीवी को भी ऑफिस-ऑफिस जैसी कोई बीमारी लग गयी है कि वह कुछ लेन-देन के बाद ही काम करेगा. या फिर हमने हजारों – लाखों रुपये खर्च कर इन कैमरों को लगवाया ही क्यों है?
इस सीसीटीवी को मुए को शर्म भी नहीं आती है, लोग जान से चले जाते है, पर यह हिलता ही नहीं है, देश कि सुरक्षा तक खतरे मे पड़ जाती है आम आदमी कि तो बात ही क्या?
और हम केवल सीसीटीवी के भरोसे है, अगर कोई इसे जान-बूझकर’ चलने नहीं देता है तो भी इसे अपने आप कभी कभार एक चमत्कार के रूप में काम करने में क्या फर्क पड़ता है, क्योंकि इसमें कैद हुई तस्वीरों से ही तो हमें कुछ सुराग मिलेंगे वर्ना दिखावे के लिए तो हमारी पुलिस झूठ-मूठ कुछ तो छापेमारी करेगी ही,
वैसे भी पहले जब सीसीटीवी नहीं था तो क्या मामले सुलझते ही नहीं थे, हाँ यह अलग बात है कि ज्यादातर मामलों में बाहरी ताकतों के होने का तर्क दिया जाता था और अगर कोई गुनाहगार पकड़ा भी जाए तो क्या? कानून के ढीले ढाले पेंच उसकी सलामती के कई रास्ते अपने आप खोल देते है ताकि गुनाह करनेवालों के हौंसले और बुलंद हो और वो संगीन से संगीन अपराध करने कि हिमाकत कर सके, इसी का नाम तो भारतीय लोकतंत्र है, और ‘टालरेंस’ भी हमारा गज़ब का है , हर चीज बर्दाश्त कर लेते है…
हाँ हाँ , वही… सहिष्णुता , फर्गिवेनेस .. क्षमा.. ‘क्षमादान सबसे ऊपर है’,
यह सब सब कहते सुनते ही तो हमने गांधीजी के ‘तीन बंदरों’ को अपनी नाकामी कि ढाल बना दिया है, कैसे? ..
ऐसे जनाब- हर गुनाह से , सामाजिक बुराइयों से हमने आँख मूंद ली है- चाहे हमारे सामने कितना भी बुरा घटित हो रहा हो- ‘ हम कुछ देखते ही नहीं है’- मैंने देखा नहीं’ ,
विकास और वैश्वीकरण के शोर मे किसी कि चीख पुकार भी हमें सुनाई नहीं देती है- मैंने सुना नहीं’, और अन्याय चाहे कितना भी हो रहा हो, हमारे में अब बोलने कि हिम्मत रही ही नहीं – सब चलता है, अपने बाप का क्या जाता है, मजबूरी का नाम … हम है- जी हाँ – एक आम भारतीय आदमी, किसी और का नाम बदनाम करने से क्या फायदा?,
तो यह है हमारा तीसरा पहलु- ‘मैंने बोला नहीं’

तो फिर से ‘सीसीटीवी’ कि कार्य प्रणाली पर लौटते है. सरकार ने जहां भी जनता का पैसा खर्च कर ये
‘सीसीटीवी’ लगाए हैं , जहां ये बंद पड़े हैं – उन्हें चालु कराया जाय, जहां चल रहे है वहाँ पर इनकी फूटेज कि निगरानी करने वालों को सतर्क किया जाए, क्योंकि कब कहाँ क्या होगा इसका अनुमान लगाया नहीं जा सकता इसलिए सतर्कता जरुरी है. और जिनके जिम्मे इसका पूरा कार्यभार है वहाँ पर जवाबदेही तय कर इसकी कार्यप्रणाली को सुचारू रूप से चलाया जाए और इसको सख्ती से लागू किया जाए.
लेखक कि प्रार्थना है कि सरकार लगाए गए ‘सीसीटीवी’ कि ‘कार्यप्रणाली’ निश्चित करें ताकि जनता को और सभी को इसका लाभ मिल सके. सभी जगहों पर ये सीसीटीवी बिना रुकावट के चलते रहे और कानून कि मदद करते रहे. और इन सीसीटीवी को लगाने पर जो ‘जनता’ का ‘पैसा’ लगाया गया है उसका लाभ ‘राष्ट्र’ को और ‘जनता’ को मिले. जान हानि को बचाया जाए, राष्ट्र और राष्ट्रीय राष्ट्रीय संपत्ति कि रक्षा कि जा सके.
और जनता भी अपनी जागरूकता से इन ‘सीसीटीवी’ कि रक्षा करे ताकि कोई असामाजिक तत्त्व इनको नुक्सान न पंहुचा सके और ‘राष्ट्रीय-संपत्ति’ कि हानि को टाला जा सके.

(नोट – सुर्ख़ियों में है कि कुछ जगहों पर ‘एल-ई-डी’ ‘बल्ब’ लगाने या बदलने के कार्य में भी कुछ अनियमितताएं पायी गयी है … जय हो !!)

श्री.शिव छत्रपतींचा ३८५वा जयंती सोहळा !!!

मित्रांनो काही महिन्यांपूर्वी (म्हणजे गणेश उत्सवादरम्यान) मी ह्या ब्लॉगवर मराठीतला माझा पहिला लेख (ह्या ब्लॉगवर) लिहिण्याचे मनोगत व्यक्त केले होते. पण नंतर ते राहूनच गेले.
पण आज एका विशिष्ट दिवशी माझी इच्छा पूर्ण होत आहे.
आज ‘छत्रपती शिवाजी महाराजांच्या’ ३८५ व्या जयंती निमित्त मी ह्या ब्लॉगवर हा पहिला ‘मराठी’ लेख (वृतांत) आपल्या समक्ष प्रस्तुत करीत आहे.
कृपया आपला अभिप्राय आणि सूचना अवश्य कळवाव्यात हि विनंती.

______________________________________________________________

आज १९ फेब्रुवारी २०१५ हा दिवस गुजरात मधील कच्छ येथील मुन्द्रा येथे वास्तव्य करणाऱ्या
मराठी बांधवांसाठी एक आनंदाचा आणि महत्वाचा दिवस ठरला.
आज पहिल्यांदा मुन्द्रा ह्या ठिकाणी श्री. छत्रपती शिवाजी महाराजांचा ‘जयंती’ उत्सव साजरा करण्यात आला.
मुन्द्रा इथे बरेच वर्षांपासून पुष्कळ मराठी बांधव नौकरी कामाच्या निमित्ताने स्थायिक झालेले आहेत आणि पुष्कळ जण तर इथेच स्थायिक सुद्धा झालेले आहेत.
सन २००५ ला पहिल्यांदा इथे ‘हिंगलाज नगर युवक मंडळ’ आणि ‘महाराष्ट्र मंडळाच्या’ वतीने सार्वजनिक गणेश उत्सव सुरु करण्यात आला. पण सलग पाच वर्ष सुरळीत पार पडल्यावर आणि काही लोकांच्या बदल्या झाल्यामुळे म्हणा किंवा कामाचा व्याप वाढल्यामुळे बरीचशी मंडळी विखुरल्या गेली आणि हळू हळू महाराष्ट्र मंडळाचा कारभार थंड पडत गेला.
पण सर्व मराठी बांधव आपल्या आपल्या परीने घरी आणि आप-आपल्या ‘सोसायटी’ मध्ये सर्वच सण वेळोवेळी साजरे करत आले.
असेच येथील एका ‘कलापूर्ण सोसायटी’ मध्ये राहणारे श्री. उदय पतंगराव (मूळ गाव- मुरबाड जिल्हा –ठाणे) यांनी पुढाकार घेऊन श्री.अष्टविनायक मंडळाची स्थापनी केली आणि दीड दिवसांचा गणपती ते साजरा करीत आले आहेत.
परदेशी राहून आपला ‘बाणा’ जपण्याचे कार्य सातत्याने बरेच जण करीत असतात. आणि आजच्या ह्या ‘स्व-प्रसिद्धीच्या’ युगात सुद्धा निस्वार्थपणे कार्य करणारे पण बरीच मंडळी असतात.
असेच एक व्यक्तिमत्व म्हणजे मूळ गाव- आटपाडी, जिल्हा-सांगली येथील आणि जवळपास ७/८ वर्षांपासुन मुन्द्रा इथे वास्तव्यास असलेले श्री.संतोष गायकवाड.
त्यांचा उत्साह आणि कार्य पाहून मला आनंद तर झालाच पण आश्चर्यहि वाटले. कारण पहिल्यांदा मी शिवाजी महाराजांची जयंती, हि घरात, एखाद्या सणा सारखी साजरी करताना पाहिले.

गेले तीन वर्ष श्री. गायकवाड, श्री.उदय पतंगराव आणि श्री.संजय भोंसले हे शिवाजी जयंतीचा उत्सव श्री.गायकवाड ह्यांच्या घरी साजरी करीत होते.
श्री. शिवाजी महाराजांची जयंती, त्यांचा ‘राज्याभिषेक-दिन’ आणि महाराजांची ‘पुण्यतिथी’ ह्या तिन्ही दिवशी श्री.गायकवाड हे आपल्या घरी तोरण बांधून महाराजांच्या फोटो ला हार तुरे अर्पण करून आणि रणजीत देसाई यांची ‘श्रीमान योगी’, ‘छावा’ या कादंबऱ्यांना हळद कुंकू वाहून, हे दिवस साजरे करतात, आणि महाराजांचे स्मरण करून त्यांना आदरांजली वाहतात.
या वर्षी या तिघांनी मिळून आणि मुन्द्रा इथे लहानपणा पासून वाढलेले श्री.देवेंद्र निगडे (हिंगलाज युवक मंडळ आणि महाराष्ट्र युवा मंडळाचे कार्यकर्ते) यांच्या साथीने मुन्द्रा इथे ‘श्री.शिवाजी महाराजांच्या जयंती’ उत्सवाला सुरुवात केली.
आज सर्व मराठी बांधव तथा भगिनी सुद्धा यांनी एकत्र येऊन स्थानिक देवीच्या मंदिरात पूजा केल्यानंतर, मशाल यात्रा काढण्यात आली. आणि ठरल्या प्रमाणे स्थानिक क्षेत्रपाळ नगरात श्री.विष्णू नारेवाडकर यांच्या घरासमोर उभारण्यात आलेल्या मंडपात श्री.शिवाजी महाराजांची मूर्ती स्थापन करून पूजा करण्यात आली. (ऐनवेळी कार्यक्रम ठरल्यावर केवळ दोन-तीन दिवस हातात असताना सुद्धा खास मुंबईहून महाराजांची मूर्ती मागविण्यात आली)
महाराष्ट्रापासून शेकडो किलोमीटर दूर थेट पाकिस्तान च्या सीमेलगतच्या भागात कच्छ्-गुजरात मधे आज महाराजांचे पोवाडे, संताची भजने आणि ‘शिवाजी महाराज कि जय’, ‘जय भवानी-जय शिवाजी’ ह्या उदघोशानी आसमंत दुमदुमला.

!! शिवरायांचे आठवावे रूप !! शिवरायांचा आठवावा प्रताप !!

शिवाजी महाराज, लोकमान्य टिळक, ह्यांची नुसती नावे जरी घेतली तरी मराठी मने कशी  आनंदाने, स्वाभिमानाने फुलून येतात – आज त्याही पुढे जाऊन ती एकत्र आलीत आणि एक नवीन सुरुवात झाली.

Silence Speaks ..!!

This Silence is much more pleasing
Much more healing to the Scars
That the Sound left away…

There is nothing to See
Nothing to Say
Just the Universal language
Speaks it Loud,
It says that there is a World
Far beyond

Beyond the Right and Wrong
Of this World,
A World which discriminates none
And takes all as One…

A World beyond the Real and Fake,
Where nothing needs to be Given and
Nothing to Take…

सपनों का भारत !!!

सपनों का भारत हमारे
कैसा हो
कैसा हो
चारों तरफ खुशहाली हो
और लहराता तिरंगा हो !!

सपने जो सब देखे थे
वीर अमर शहीदों ने
भगत, बापू,सुभाष ने
और सारे भारतवासियों ने
पूरा कर उन सपनों कों
अपना फ़र्ज़ निभाना हो !! १ !!

बदलाव जो देश में आया है
मौका सुनहरा लाया है
जोश फिजाओं में नया है
मौका नहीं ये गंवाना हाँ
सबक पुरानी गलतियों से लेकर
एक नया भारत बनाना हो !! २ !!

भेद-भाव, लूट-पाट,
जात-पात,
जोर-ज़बरदस्ती और
फिरकापरस्ती कों,
पहचान लो गद्दारों कों
मिटा कर इन दुश्मनों कों
अत्याचारों को न सहना अब
नया सवेरा लाना हो !! ३ !!

सपनों का भारत हमारे
अब ऐसा ही हो के
चारों तरफ खुशहाली हो
और लहराता तिरंगा हो !!

 

‘किरमिच’ … ( ‘Canvas of Life’ )

समय कि कूंची चली है
यादों के दृश्य बिखरे है
जिंदगी के ‘किरमिच’ पर
आज कई रंग उभरे है

रंगीन कुछ
कुछ काले,
कुछ निखरे
कुछ धुन्धलाये
लेकिन सब ऐसे, जैसे
दिल खोल के जी आये

कई जज़्बात इनमे बोल रहे है
रिश्तों कि कहानियां कह रहे है
उम्र के पड़ाव इनमे झलक रहे है
हर दौर का हिसाब मांग रहे है

मेरे तब का मैं
और मेरे अब का मैं
दोनों आमने सामने है
सवाल भी मैं
और जवाब भी मैं
फिर भी उलझनें बाकी है

लगता है एक उम्र गुज़र गयी
कभी लगता है कि
अभी तो जिंदगी शुरू हुई,

या फिर कट चुकी है आधी
और बाकी है आधी,
‘चितकबरी’‘किरमिच’
टंगी हुई दीवार पर